मैंने एक तूफ़ानी रात में अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा और उसकी चूत फाड़ दी

 नमस्कार दोस्तों,

 आज मैं आपको अपने जीवन में घटे एक चमत्कार के बारे में बताने जा रहा हूँ…”कैसे मैंने अपनी एक गर्लफ्रेंड को चोदा और अपना लंड तोड़ लिया”…

 आशा है आपको यह बहुत रोचक लगेगा, अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।  ये है कहानी: नौ घटनाओं का वर्णन किया गया है.

 मैं द्विप हूं, मैंने इसी साल 12वीं कक्षा पास की है और कॉलेज में विज्ञान विषय लिया है, इसलिए ट्यूशन नई जगह पर तय हुआ है।  यह सोचकर कि मुझे अच्छे नतीजे लाने हैं, मैंने बिना समय बर्बाद किए साल की शुरुआत में ही पढ़ाई शुरू कर दी।  पहले दिन मैंने कई नये अनजान विद्यार्थियों को देखा, मुझे खुशी हुई कि इस बार नये लोगों से मुलाकात होगी।  धीरे-धीरे कई दिन बीत गए और अनजान दोस्त अब बहुत करीब आ गए।

 इसी बीच मेरे साथ एक अद्भुत घटना घटी, जिसके बारे में मुझे पहले से ही कुछ अंदाज़ा था।  ट्यूशन के पहले दिन से ही तान्या नाम की एक लड़की ने मेरे प्रति अपना आकर्षण देखा।  चूँकि आज राज मेरे साथ नहीं आया था तो उसने मुझे अकेला पाकर अपने मन की बात बता दी।  चूंकि मेरा 2 साल पुराना रिश्ता 10वीं कक्षा में टूट गया, इसलिए मैंने फिर कभी प्यार में नहीं पड़ने की कसम खाई।  यही सोच कर मैंने तान्या से समय मांगा.

 अगले दिन मैंने उसे फोन किया और बताया.

 मैं- देखो तान्या मैं अपने ब्रेकअप के बाद पूरी तरह से टूट चुका हूं और किसी रिश्ते में नहीं बंध सकता।

 तान्या- प्लीज ऐसा मत कहो.  मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ, ट्यूशन के पहले दिन से ही तुम्हारे बारे में सोच रहा हूँ।  कृपया मेरे सामने दिखावा मत करो.

मैं- मैं जानता हूं कि किसी की परवाह करना कैसा लगता है.  इसलिए मैं आपका दिल नहीं तोड़ना चाहता, लेकिन मुझे डर है कि कहीं मैं फिर से आदी न हो जाऊं।

 तान्या- फिर तो हम कैजुअल रिश्ता रख सकते हैं, इसमें हम दोनों का ही फायदा है।

 मैं- फिर क्या है?

 तान्या- मतलब इमोशनल रिश्ता तो दोस्त जैसा होगा, लेकिन शारीरिक रिश्ता भी कपल जैसा हो सकता है।

 मैं मन ही मन उसका इशारा समझ गया.  मुझे एहसास हुआ कि वह उस धोन के प्रति कितनी आकर्षित है जो मेरे मन का नहीं है।  जब मैं घर आया तो मुझे भी उसके शरीर के प्रति खिंचाव महसूस हुआ।आज बात करते समय मैं उसकी बड़ी-बड़ी आँखों को ही देख रहा था।  आज उसके बारे में सोचते-सोचते धोन उठ खड़ा हुआ।  मैंने भी पूरा हाथ मारा और अपना वीर्य छोड़ दिया.

 आह्ह्ह्ह… उम्म्मम्म

 इस तरह हम कई दिनों तक एक-दूसरे को चूमते हैं, जगह-जगह लड़ते हैं, कई बार उसकी योनि में उंगली डालकर पानी निकाल देते हैं।  उसने अपना हाथ मेरी पैंट के अंदर डाल दिया और मुझे मार डाला.  ट्यूशन में बहुत से स्टूडेंट ज्यादा कुछ नहीं कर पाते थे, लेकिन वो दोनों बहुत कुछ करना चाहते थे. मैंने घर जाकर सोच लिया कि इसे तो मुझे हर हाल में चोदना ही है.

 कुछ दिनों बाद वह सुनहरा अवसर आ गया।  आज शाम को बारिश होने के कारण ज्यादा छात्र नहीं आये, मैं, राज और अबीर आये, सर ने कहा कि आज फिर नहीं पढ़ाऊंगा, इतना कहकर सर घर से चले गये, अबीर और राज चले गये।  जैसे ही मैं बाहर आया तो मैंने देखा कि तान्या बारिश से भीगती हुई आ रही है।

उसकी सफ़ेद चूड़ीदार में उसकी सफ़ेद ब्रा और पैंटी का गीलापन साफ़ दिख रहा था और उसके नीचे से टपकते दूध और टपकती हुई चूत को देखकर मैं पूरी तरह गर्म हो गया।  ऐसे ही मेरे हाथ से भींच कर उसका लंड और बड़ा हो गया.  उसका वीर्य से भरा गीला शरीर फूटने वाला है।  और उसके गीले बाल उसके गोरे बालों पर गिर रहे हैं।  उसके सिर का पानी बहकर उसके दूध में जमा हो रहा है।

 यह दृश्य देख कर मैं अपने आप को शांत नहीं कर सका  आज ट्यूशन मुफ़्त है, इसलिए मैंने सोचा कि अगर मैंने यह मौका गँवाया तो मैं अपने आप को कभी माफ़ नहीं कर पाऊँगा।

 बिना किसी देरी के मैंने तान्या को अंदर खींच लिया, उसे चूमा और गले लगाया और उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए।

 तान्या- चलो, कोई देख लेगा कि तुम क्या कर रहे हो।

 मैं- आज तो कोई नहीं है, आज तुम देखो क्या चुदाई होती है.  तुम मुझे इतना जला रहे हो आज मैं सारी जलन ख़त्म कर दूँगा।

 इतना कह कर मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिये और सारी गीली बुर मुँह में लेकर चाट ली।  बारिश से भीगी हुई मांग की तीखी गंध ने मुझे बेहोश कर दिया।  पहले तो वह झिझके, लेकिन बाद में अमर ताल पर नृत्य करने लगे।

 अह्ह्ह्ह… उफ्फ्फ….  उम्म्मम्म्म्म…….

 तान्या- आह.  आज मुझे खा कर ख़त्म कर दो।  उम्म्म्म्म…

 मैंने अपनी जीभ अन्दर डाल दी और चाटने लगा.  उसने ख़ुशी से मेरा सिर ज़ोर से पकड़ लिया।  मैंने उसे उठाया और शाखा पर सो गया।  उसने सोते समय अपने पैरों से मेरा सिर दबा लिया.

मैं- मेरी सांसें फूल रही हैं.

 तान्या- क्यों तुम्हें मुझे दूध पिलाना अच्छा लगता है, क्या अब तुम मेरे दूध नहीं चूसते?

 मैं आज तुम्हें गाय बना दूँगा और तुम्हारा सारा दूध चूस लूँगा।

 अब मैं धीरे-धीरे उसकी छाती की तरफ बढ़ने लगा और दूध को धीरे-धीरे काटने लगा।  मैं कभी बूंदों को चूस रहा था तो कभी दूध में चूम रहा था.  मैं अपनी उंगलियों से उसकी चूत के सिरे को रगड़ता रहा, यह उन दोनों के लिए एक ख़ुशी का पल था।  आह्ह्ह्ह….

 मैं- अभी आ, तेरी चूत फाड़ कर इसका भोसड़ा बना दूँगा बाल!  आज

 यह कहते हुए मैंने अपना 8 इंच का लंड खड़ा किया और उसकी चूत में डाल दिया।

 मैं- अन्दर क्यों नहीं आ रहे हो?

 तान्या- आराम से करो, आज पहली बार है, प्लीज़ आराम से करो।

 मैंने थोड़ा सा थूक मलने से पहले धीरे से छेद में थोड़ा सा डाला।

 तान्या- आह आह!!  मेरी चूत धीरे धीरे फट रही है.  ओह…

 जैसे ही उसने धीरे से कुछ दबाया तो वह दर्द से चिल्ला उठी, उसकी कुंवारी योनि का पर्दा फट गया और लाल खून बाहर आ गया।

 तान्या- उफ्फ… थोड़ा खड़ा होने पर दर्द होता है।

 मैं- ठीक है, तब तक अपना लंड चूसो.

 उसने मेरे लंड पर लगे खून को पोंछने के बाद पूरे लंड को 2 हाथों से खींचना शुरू किया और अपने मुँह में भर लिया.  अलग्ग्ग्ग्ग….

 तान्या- उफ्फ मारबी या नहीं, अभी अंदर आओ।

मैंने इसे पूरा अंदर तक धकेल दिया।  उसने मजे और दर्द से अपनी कमर उचकाई, उफफफ्फ़… आह..

 मैं उसके निपल्स को गुदगुदी करने लगा.  मैं उसे चूमने लगा.  हम दोनों के बीच चुदाई बढ़ने लगी.

 मैंने धीरे-धीरे स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी, उसने भी अपनी कमर उछालनी शुरू कर दी।

 फिर मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और काउगर्ल पोज में कर दिया और वो मेरे ऊपर बैठ कर बैठने लगी.  मैंने भी उसके कंधे पकड़ लिए और नीचे से चूमने लगा.

 इस बीच उसने 3 बार और पानी छोड़ा, मेरा लंड पूरा भर गया.  मैंने अब उसे लेटा दिया और लंबे-लंबे झटके देना जारी रखा, कुछ देर बाद जब मेरा माल आगे की तरफ निकला तो मैंने उसे बताया।

 मैं माल भर दूंगा या बाहर फेंक दूंगा.

 तान्या- नहीं, नहीं, मैं माँ नहीं बनना चाहती, मेरे मुँह पर लगा दो।

 इतना कह कर वो मेरा लंड चूसने-चूसने लगी और मैंने सारा माल उसके मुँह में निकाल दिया।  आह्ह्ह्ह…..

 उम्म्म्म्म….

 उसके बाद अगर मेरा या उसका घर खाली होता है तो हम कई दिनों तक सेक्स करते हैं और एक-दूसरे को संतुष्ट करते हैं।

 अगर आपको कहानी पसंद आए या आप शिकायत जानना चाहें तो कृपया कमेंट करें.  अगर आप ऐसी और घटनाएं पढ़ना चाहते हैं तो मुझे फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *